• vision5design

हाथरस की हींग मंडी

आम नागरिकों के लिए हाथरस मात्र एक कस्बे से ज्यादा नहीं जो अलीगढ और आगरा के बीच पड़ता है।

पर, जो लोग हींग के कारोबार से ताल्लुक रखते हैं उनके लिए हाथरस का नाम कोई नया नहीं है।



हाथरस का ध्यान आते ही इसकी गलियों में चल रहे हींग के कुटीर उद्योग से उठती सुगंध की अनुभूति मन ही मन करने लगते हैं।



हाथरस के लोहट बाज़ार में स्थित हींग मंडी उत्तर प्रदेश का नाम पूरे देश में रोशन करती रही है। न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि भारत के विभिन्न भागों से हींग के व्यापार से जुड़े लोग कारोबार और खरीदी के लिए यहाँ आते हैं और लाखों-लाख रूपयों का व्यापार होता है।



राजस्थान पत्रिका अखबार के अनुसार:

हाथरस में इस व्यवसाय को प्रोत्साहन देने लिए हाथरस को "एक जनपद- एक उत्पाद" योजना के अंतर्गत लाया गया है ताकि हींग के इस पुरातन कुटीर उद्योग को सशक्त किया जा सके।

इस उद्योग से जुड़े लोगों को आसानी से अनुदान व ऋण आदि की व्यवस्था का प्रावधान है।



हाथरस के हींग उद्योग के लिए कच्चा माल कंधार क्षेत्र यानि कि अफगानिस्तान से आता है हाथरस मे मुख्यतौर पर हींग की प्रोसेसिंग और ग्रेडिंग होती है।



हर कारीगर की अपनी ही पुश्तों से चली आ रही हींग को प्राकृतिक रूप से परिष्कृत करने की विधि है। (यानि कि आर्गेनिक प्रोसेसिंग रेसिपी है।)



सभी फोटो साभार :

द थाट (यूट्यूब चैनल के एक हाथरस हींग पैकिंग के वीडियो से।)


आप यूट्यूब पर उनके चैनल को जरूर देखें।

यह रहा लिंक: वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें!


Images courtesy to:

The Thaat | YouTube channel video on Asafoetida packaging. We respectfully give full credit to diwan.rstv@gmail.com